संग्रह की मदद से व्यवस्थित रहें अपनी प्राथमिकताओं के आधार पर, कॉन्टेंट को सेव करें और कैटगरी में बांटें.

एसईओ में अपना वीडियो दिखाने के सबसे सही तरीके

वीडियो एक ऐसा फ़ॉर्मैट है जिसे वेब पर कॉन्टेंट बनाने के लिए सबसे ज़्यादा इस्तेमाल किया जाता है. साथ ही, वीडियो फ़ॉर्मैट सबसे ज़्यादा देखा जाता है. Google, उपयोगकर्ताओं को वीडियो दिखाने के लिए लाखों अलग-अलग साइटों से वीडियो इंडेक्स करता है. वीडियो, Google पर कई अलग-अलग जगहों पर दिख सकते हैं. इनमें, खोज नतीजों वाला मुख्य पेज, वीडियो के खोज नतीजे, Google Images, और डिस्कवर शामिल हैं:

Google के खोज नतीजों, वीडियो टैब, और डिस्कवर में वीडियो कॉन्टेंट दिखाए जाने का स्क्रीनशॉट

इन सबसे सही तरीकों को अपनाकर, अपने वीडियो को Google के खोज नतीजों में दिखाने के लिए ऑप्टिमाइज़ करें:

  1. अपने वीडियो ढूंढने में Google की मदद करना
  2. यह पक्का करना कि आपके वीडियो इंडेक्स किए जा सकें
  3. Google को वीडियो कॉन्टेंट वाली अपनी फ़ाइलें फ़ेच करने की अनुमति देना
  4. वीडियो से जुड़ी खास सुविधाएं चालू करना
  5. अपने वीडियो को ज़रूरत के हिसाब से हटाना, उन पर पाबंदी लगाना या उन्हें अपडेट करना

अपने वीडियो ढूंढने में Google की मदद करना

  • पक्का करें कि हर वीडियो किसी ऐसे सार्वजनिक वेब पेज पर मौजूद हो जहां उपयोगकर्ता उसे देख सकें. पक्का करें कि पेज को robots.txt या noindex robots मेटा टैग से ब्लॉक न किया गया हो. इससे यह पक्का होता है कि Google आपके पेज को ढूंढ सकता है और इंडेक्स कर सकता है.
  • अपने वीडियो को ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक पहुंचाने के लिए, हर वीडियो के लिए अलग से पेज बनाएं. इस पेज पर वीडियो को प्रमुखता से दिखाया जाना चाहिए. कुछ सुविधाओं का इस्तेमाल करने के लिए, अलग से बनाए गए वीडियो पेज की ज़रूरत होती है. इन सुविधाओं में खास पल, लाइव बैज, और ज़्यादा बेहतर नतीजों (रिच रिज़ल्ट) वाले दूसरे फ़ॉर्मैट शामिल होते हैं. वीडियो के मूल पेज और उसके लिए बनाए गए अलग पेज, दोनों पर एक ही वीडियो दिखाने में कोई दिक्कत नहीं है. वीडियो के साथ, इन पेजों पर समाचार लेख या प्रॉडक्ट की जानकारी वाले पेज जैसी अन्य जानकारी भी दी जा सकती है.

    ऐसा वेब पेज जिस पर वीडियो को प्रमुखता से दिखाया जाता है
  • अपने वीडियो को सही एचटीएमएल टैग में शामिल करें. एचटीएमएल टैग की मदद से, Google आपके पेज पर मौजूद वीडियो की पहचान ज़्यादा आसानी से कर सकता है. उदाहरण के लिए: <video>, <embed>, <iframe> या <object>.
  • वीडियो साइटमैप बनाएं, ताकि Google आपके वीडियो को आसानी से ढूंढ सके. Google पर अपना साइटमैप सबमिट करने का तरीका जानें.
  • इस बात का ध्यान रखें कि पेज पर वीडियो देखने के लिए, उपयोगकर्ता को मुश्किल कार्रवाइयां न करनी पड़े या कोई खास यूआरएल फ़्रैगमेंट लोड करना ज़रूरी न हो. ऐसा होने पर, हो सकता है कि Google वीडियो को न ढूंढ पाए.
    • उपयोगकर्ताओं के इंटरैक्ट करने पर मुख्य कॉन्टेंट को धीमे लोड न करें. शायद, Google ऐसा कॉन्टेंट न ढूंढ पाए जिसे लोड करने के लिए, उपयोगकर्ताओं के इंटरैक्शन (जैसे कि स्वाइप करना, क्लिक करना या टाइप करना) की ज़रूरत हो. पक्का करें कि Google धीमी रफ़्तार से लोड होने वाला कॉन्टेंट इंडेक्स कर सके.
    • अगर कुछ खास स्थितियों में, JavaScript के ज़रिए वीडियो ऑब्जेक्ट को एम्बेड करने के लिए, मुश्किल JavaScript का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो शायद Google आपके वीडियो को सही तरह से इंडेक्स न कर पाए.
    • कॉन्टेंट या लैंडिंग पेज के ऐसे यूआरएल इस्तेमाल नहीं किए जाते जिनमें फ़्रैगमेंट आइडेंटिफ़ायर की ज़रूरत होती है.
    • पक्का करें कि आपके वीडियो वाले पेजों पर वीडियो दिख रहे हैं और उन्हें आसानी से ढूंढा जा सकता है. हमारा सुझाव है कि हर वीडियो के लिए एक अलग पेज होना चाहिए, जिसमें वीडियो की जानकारी देने वाले शीर्षक या ब्यौरे शामिल हों. हर वीडियो के लिए अलग-अलग शीर्षक या ब्यौरे होने चाहिए. पक्का करें कि वीडियो, पेज पर मुख्य तौर पर दिखाए गए हों. वे छिपे नहीं होने चाहिए या उन्हें ढूंढना मुश्किल नहीं हो.

तीसरे पक्ष के, एम्बेड किए गए वीडियो प्लेयर

अगर आपकी वेबसाइट पर, YouTube, Vimeo या Facebook जैसे तीसरे पक्ष के प्लैटफ़ॉर्म से वीडियो एम्बेड किए जाते हैं, तो Google आपके वेब पेज और तीसरे पक्ष की होस्टिंग साइट के ऐसे पेज जिन पर वीडियो मौजूद है, दोनों से वीडियो को इंडेक्स कर सकता है. दोनों वर्शन, Google पर वीडियाे से जुड़े खोज के नतीजों में दिख सकते हैं.

आपको अपने उस पेज के लिए भी स्ट्रक्चर्ड डेटा देना चाहिए जिस पर आपने तीसरे पक्ष का वीडियो प्लेयर एम्बेड किया है. साथ ही, आप इन पेजों को अपने वीडियो साइटमैप में भी शामिल कर सकते हैं. पक्का करें कि आपका वीडियो होस्ट करने वाला पेज, Google को आपका वीडियो कॉन्टेंट फ़ेच करने की अनुमति देता हो. उदाहरण के तौर पर, सार्वजनिक वीडियो के लिए, YouTube यह सुविधा उपलब्ध कराता है.

यह पक्का करना कि आपके वीडियो इंडेक्स किए जा सकें

अगर Google किसी पेज पर वीडियो की पहचान करता है, तो उसे वीडियो के खोज नतीजों में दिखाने के लिए, Google को ज़्यादा जानकारी की ज़रूरत होती है.

अच्छी क्वॉलिटी वाला थंबनेल उपलब्ध कराना

Google पर वीडियो खोज नतीजों में दिखने के लिए, वीडियो की एक मान्य थंबनेल इमेज होनी चाहिए. थंबनेल न होने पर, हो सकता है कि पेज इंडेक्स तो किया गया हो, लेकिन वह सिर्फ़ सादे नीले लिंक के तौर पर दिखे.

Google को वीडियो का थंबनेल जनरेट करने की अनुमति दी जा सकती है. अगर आपको ऐसा नहीं करना है, तो थंबनेल जनरेट करने के लिए यहां दिए तरीकों में से कोई भी तरीका अपनाएं:

Google Images पर इस्तेमाल होने वाले फ़ॉर्मैट: BMP, GIF, JPEG, PNG, WebP, और SVG .

साइज़: थंबनेल का साइज़ कम से कम 60x30 पिक्सल या उससे ज़्यादा होना चाहिए

जगह: यह ज़रूरी है कि Googlebot, थंबनेल फ़ाइल को ऐक्सेस कर पाए. फ़ाइल को, robots.txt इस्तेमाल करके ब्लॉक न करें या उसे ऐक्सेस करने के लिए लॉगिन करना ज़रूरी न हो. पक्का करें कि फ़ाइल का कोई स्टेबल यूआरएल मौजूद हो.

पारदर्शिता: थंबनेल के कम से कम 80% पिक्सल की ऐल्फ़ा वैल्यू (पारदर्शिता) 250 से ज़्यादा होनी चाहिए.

स्ट्रक्चर्ड डेटा उपलब्ध कराना

अपने वीडियो के बारे में जानकारी देने वाला स्ट्रक्चर्ड डेटा दें, ताकि Google समझ सके कि वीडियो का विषय क्या है और मिलती-जुलती क्वेरी होने पर, वीडियो को खोज नतीजों में दिखा पाए. पक्का करें कि आप स्ट्रक्चर्ड डेटा में जो भी जानकारी दें वह वीडियो के असल कॉन्टेंट के मुताबिक हो. स्ट्रक्चर्ड डेटा जोड़ते समय, अपनी साइट के हर वीडियो के लिए खास थंबनेल, शीर्षक, और जानकारी का इस्तेमाल ज़रूर करें. आपको एक ही पेज पर, एक ही वीडियो के बारे में जानकारी देने वाले सभी सोर्स (साइटमैप, एचटीएमएल टैग, मेटा टैग, और स्ट्रक्चर्ड डेटा) में एक ही शीर्षक, थंबनेल यूआरएल, और वीडियो यूआरएल देना चाहिए.

Google को वीडियो कॉन्टेंट वाली अपनी फ़ाइलें फ़ेच करने की अनुमति देना

हो सकता है कि कोई वीडियो पेज, इंडेक्स किया गया हो और उसे Google के खोज नतीजों में दिखने की मंज़ूरी हो, लेकिन Google को वीडियो कॉन्टेंट समझने के साथ-साथ वीडियो की झलक और खास पल जैसी सुविधाएं चालू करने के लिए, वीडियो फ़ाइल खुद ही फ़ेच करनी होगी.

Google को वीडियो कॉन्टेंट वाली अपनी फ़ाइलें फ़ेच करने की अनुमति देने के लिए, यहां दिए गए सबसे सही तरीके अपनाएं:

  • स्ट्रक्चर्ड डेटा का इस्तेमाल करके, काम करने वाले फ़ाइल फ़ॉर्मैट में contentURL वैल्यू दें.
  • Google को, वीडियो की स्ट्रीमिंग फ़ाइल की बाइट फ़ेच करने से ब्लॉक न करें. उदाहरण के लिए, वीडियो के यूआरएल या डोमेन को noindex टैग या robots.txt फ़ाइल से ब्लॉक न करें.
  • वीडियो को होस्ट करने वाले पेज और वीडियो को स्ट्रीम करने वाले सर्वर में इतनी बैंडविड्थ होनी चाहिए कि उसे क्रॉल किया जा सके. इसका मतलब है कि example.com/puppies.html के लैंडिंग पेज पर, अगर आपने somestreamingservice.com पर मौजूद कोई ऐसा वीडियो एम्बेड किया है जिसमें कुत्ते के बच्चे दिखाए गए हैं, तो ज़रूरी है कि Google, example.com और somestreamingservice.com को ऐक्सेस कर पाए. साथ ही, इनके लिए ऐसा सर्वर भी ज़रूरी है जिसमें वीडियो को लोड होने में समय न लगे.
  • वीडियो फ़ाइल किसी स्टेबल यूआरएल पर उपलब्ध होनी चाहिए.

वीडियो एन्कोडिंग करने वाले फ़ॉर्मैट

Google, इन वीडियो फ़ाइल टाइप को फ़ेच कर सकता है: 3GP, 3G2, ASF, AVI, DivX, M2V, M3U, M3U8, M4V, MKV, MOV, MP4, MPEG, OGV, QVT, RAM, RM, VOB, WebM, WMV, XAP.

वीडियो और थंबनेल फ़ाइलों के लिए, स्टेबल यूआरएल इस्तेमाल करना

वीडियो और थंबनेल फ़ाइलों के लिए कुछ सीडीएन, ऐसे यूआरएल का इस्तेमाल करते हैं जिनकी समयसीमा जल्द ही खत्म होने वाली हो. ये यूआरएल, Google को आपके वीडियो को इंडेक्स करने या वीडियो फ़ाइलें फ़ेच करने से रोक सकते हैं. इससे, Google को समय के साथ आपके वीडियो में उपयोगकर्ताओं की दिलचस्पी समझने में भी परेशानी होती है.

हर वीडियो के लिए यूनीक और स्टेबल यूआरएल का इस्तेमाल करें. ऐसा करने से Google लगातार वीडियो ढूंढ पाता है और उन्हें प्रोसेस कर पाता है. साथ ही, Google इस बात की पुष्टि भी कर पाता है कि वीडियो अब भी उपलब्ध हैं. वह वीडियो से जुड़ी ऐसी जानकारी भी इकट्ठा कर पाता है जिससे वीडियो को समझने में मदद मिलती है.

अगर आप कॉन्टेंट ऐक्सेस करने वाले बैड ऐक्टर (उदाहरण के लिए, हैकर या स्पैम करने वाले लोग) को लेकर परेशान हैं, तो अपने मीडिया यूआरएल का स्टेबल वर्शन दिखाने से पहले, Googlebot की पुष्टि करें. उदाहरण के लिए, contentUrl प्रॉपर्टी को सिर्फ़ Googlebot जैसे भरोसेमंद बॉट को दिखाया जा सकता है. हालांकि, आपका पेज ऐक्सेस करने वाले दूसरे क्लाइंट को यह फ़ील्ड नहीं दिखेगा. इस सेटअप की मदद से, सिर्फ़ भरोसेमंद क्लाइंट ही आपके वीडियो कॉन्टेंट वाली फ़ाइल की जगह की जानकारी ऐक्सेस कर पाएंगे.

कौनसा यूआरएल, किस तरह का है?

पेज पर मौजूद किसी वीडियो फ़ाइल के कई यूआरएल हो सकते हैं. उनमें से ज़्यादातर के बारे में यहां जानकारी दी गई है:

किसी पेज में दिए गए यूआरएल का डायग्राम
टैग जानकारी
1
  • <loc>
    (वीडियो साइटमैप टैग)

वीडियो को होस्ट करने वाले पेज का यूआरएल. उदाहरण:

<loc>https://example.com/news/worlds-biggest-cat.html</loc>

2
  • VideoObject.embedUrl
    (स्ट्रक्चर्ड डेटा)
  • <video:player_loc>
    (वीडियो साइटमैप टैग)
  • <iframe src="...">

कस्टम प्लेयर का यूआरएल. आम तौर पर, यह पेज पर <iframe> या <embed> टैग की src वैल्यू होता है. उदाहरण:

<video:player_loc>
https://archive.example.org/cats/1234</video:player_loc>

3
  • <video src="...">
    (एचटीएमएल टैग)
  • <embed src="...">
    (एचटीएमएल टैग)
  • <video:content_loc>
    (वीडियो साइटमैप वाला टैग)
  • VideoObject.contentUrl
    (स्ट्रक्चर्ड डेटा)

किसी लोकल साइट या स्ट्रीमिंग सेवा पर मौजूद मूल वीडियो फ़ाइल का यूआरएल. उदाहरण:

<video src="videos.example.com/cats/1234.mp4">

वीडियो से जुड़ी खास सुविधाएं चालू करना

वीडियो की झलक देखने की सुविधा

खोज के नतीजों में वीडियो की झलक

Google आपके वीडियो से कुछ सेकंड के हिस्से चुनकर एक मूविंग प्रीव्यू दिखाता है. इससे उपयोगकर्ताओं को यह समझने में मदद मिलती है कि वीडियो किस बारे में है. इस सुविधा का इस्तेमाल करने के लिए, Google को आपका वीडियो फ़ेच करने की अनुमति दें. max-video-preview रोबोट मेटा टैग का इस्तेमाल करके, इन वीडियो की झलक दिखाने की ज़्यादा से ज़्यादा अवधि सेट की जा सकती है.

खास पल

खोज के नतीजों में खास पलों वाला वीडियो

The key moments feature is a way for users to navigate video segments like chapters in a book, which can help users engage more deeply with your content. Google Search tries to automatically detect the segments in your video and show key moments to users, without any effort on your part. Alternatively, you can manually tell Google about the important points of your video. We will prioritize key moments set by you, either through structured data or the YouTube description.

  • If your video is hosted on your web page, there are two ways that you can enable key moments:
    • Clip structured data: Specify the exact start and end point to each segment, and what label to display for each segment. This is supported in all languages where Google Search is available.
    • SeekToAction structured data: Tell Google where timestamps typically go in your URL structure, so that Google can automatically identify key moments and link users to those points within the video. This is currently supported for the following languages: English, Spanish, Portuguese, Italian, Chinese, French, Japanese, German, Turkish, Korean, Dutch, and Russian. We aim to extend this to more languages over time. Even in supported languagues, not all videos will have key moments identified, but we aim to improve this over time as well.
  • If your video is hosted on YouTube, you can specify the exact timestamps and labels in the video description on YouTube. Check out the best practices for marking timestamps in YouTube descriptions. This is supported in all languages where Google Search is available.

    If you want to enable Video Chapters on YouTube, follow these additional guidelines.

To opt out of the key moments feature completely (including any efforts Google may make to show key moments automatically for your video), use the nosnippet meta tag.

लाइव बैज

खोज के नतीजों में लाइव बैज वाला वीडियो

लाइव स्ट्रीम किए जा रहे वीडियो के लिए, खोज के नतीजों में लाल रंग का "लाइव" बैज दिखाने की सुविधा चालू की जा सकती है. इसके लिए, BroadcastEvent स्ट्रक्चर्ड डेटा और इंडेक्सिंग एपीआई का इस्तेमाल करें.

अपने वीडियो हटाना या उन पर पाबंदी लगाना

खोज के नतीजों से वीडियो हटाना

अपनी साइट से वीडियो हटाने के लिए, इनमें से कोई एक तरीका अपनाएं:

  • किसी ऐसे लैंडिंग पेज के लिए एचटीटीपी स्टेटस कोड के तौर पर 404 (Not found) गड़बड़ी दिखाएं जिसमें ऐसा वीडियो है जिसे हटा दिया गया है या जो अब देखने के लिए उपलब्ध नहीं है. 404 रिस्पॉन्स कोड के साथ, आप पेज का एचटीएमएल कोड भी दिखा सकते हैं, ताकि ज़्यादातर उपयोगकर्ताओं को वह बदलाव दिख सके.
  • किसी ऐसे लैंडिंग पेज पर noindex रोबोट मेटा टैग शामिल करें जिसमें कोई ऐसा वीडियो शामिल हो जिसे हटा दिया गया है या जो अब देखने के लिए उपलब्ध नहीं है. यह उस लैंडिंग पेज को इंडेक्स किए जाने से रोकता है.
  • schema.org वाले स्ट्रक्चर्ड डेटा ( expires प्रॉपर्टी) या वीडियो साइटमैप (<video:expiration_date> एलिमेंट इस्तेमाल करके) में वह तारीख बताएं, जब तक वीडियो देखने के लिए उपलब्ध रहेगा. यहां एक ऐसे वीडियो के साइटमैप का उदाहरण दिया गया है जो नवंबर 2009 तक उपलब्ध था:
    <urlset xmlns="http://www.sitemaps.org/schemas/sitemap/0.9"
            xmlns:video="http://www.google.com/schemas/sitemap-video/1.1">
      <url>
        <loc>https://www.example.com/videos/some_video_landing_page.html</loc>
        <video:video>
          <video:thumbnail_loc>
             https://www.example.com/thumbs/123.jpg
          </video:thumbnail_loc>
          <video:title>
             Grilling steaks for summer
          </video:title>
          <video:description>
             Bob shows you how to grill steaks perfectly every time
          </video:description>
          <video:player_loc>
              https://www.example.com/videoplayer?video=123
          </video:player_loc>
          <video:expiration_date>2009-11-05T19:20:30+08:00</video:expiration_date>
        </video:video>
      </url>
    </urlset>

अगर क्रॉल करते हुए Google को कोई ऐसा वीडियो मिलता है जिसे देखने की आखिरी तारीख बीत चुकी है, तो हम उस वीडियो को किसी भी खोज नतीजे में शामिल नहीं करेंगे. लैंडिंग पेज को अब भी वीडियो थंबनेल के बिना, वेब नतीजे में दिखाया जा सकता है. इन तारीखों में, साइटमैप, स्ट्रक्चर्ड डेटा, और साइट के हेडर में मौजूद मेटा टैग में दी गई, वीडियो को देखने की आखिरी तारीखें शामिल हैं. पक्का करें कि हर वीडियो को देखने की आखिरी तारीख सही हो. यह तरीका खासकर तब कारगर होता है, जब आपका वीडियो, देखने की आखिरी तारीख खत्म होने के बाद उपलब्ध न रहे. हालांकि, कई बार लोग किसी उपलब्ध वीडियो के लिए आखिरी तारीख की जगह, गलती से पहले की कोई तारीख डाल देते हैं. अगर आप चाहते हैं कि कोई वीडियो देखने के लिए हमेशा उपलब्ध रहे, तो उसमें देखने की आखिरी तारीख शामिल न करें.

उपयोगकर्ता की जगह की जानकारी के हिसाब से, किसी वीडियो पर पाबंदी लगाना

आप उपयोगकर्ताओं की जगह के हिसाब से, उनकी खोज के नतीजों में अपने वीडियो दिखा सकते हैं. अगर आपके वीडियो पर किसी देश से जुड़ी पाबंदी नहीं लगी है, तो आपको देश से जुड़ी पाबंदी लगाने वाले टैग इस्तेमाल नहीं करने चाहिए.

स्ट्रक्चर्ड डेटा का इस्तेमाल करके, वीडियो पर पाबंदी लगाना

अगर आप किसी वीडियो की जानकारी देने के लिए VideoObject स्ट्रक्चर्ड डेटा का इस्तेमाल करते हैं, तो regionsAllowed प्रापर्टी सेट अप करें. इससे, आप यह तय कर सकते हैं कि किन जगहों के खोज नतीजों में वह वीडियो दिखाया जा सकता है. अगर आप इस प्रॉपर्टी का इस्तेमाल नहीं करते हैं, तो वीडियो सभी जगहों पर खोज नतीजों में दिखेगा.

वीडियो साइटमैप का इस्तेमाल करके, वीडियो पर पाबंदी लगाना

चुनिंदा देशों में वीडियो को खोज नतीजों में दिखाने या न दिखाने के लिए, वीडियो साइटमैप में <video:restriction> टैग इस्तेमाल किया जा सकता है. हर वीडियो के लिए सिर्फ़ एक <video:restriction> टैग इस्तेमाल किया जा सकता है.

<video:restriction> टैग में एक या एक से ज़्यादा देशों के कोड, ISO 3166 फ़ॉर्मैट में होने चाहिए. इनके बीच में खाली जगह देकर, इन्हें अलग-अलग लिखा जाना चाहिए. टैग के लिए ज़रूरी relationship एट्रिब्यूट यह बताता है कि किस तरह की पाबंदी लगाई गई है.

  • relationship="allow": वीडियो तय किए गए चुनिंदा देशों में ही दिख सकता है. अगर कोई भी देश तय नहीं किया गया है, तो वीडियो कहीं भी नहीं दिखेगा.
  • relationship="deny": तय किए गए चुनिंदा देशों के अलावा, वीडियो बाकी सभी देशों में दिख सकता है. अगर कोई भी देश तय नहीं किया गया है, तो वीडियो सभी देशों में दिखेगा.

वीडियो साइटमैप के इस उदाहरण में, वीडियो सिर्फ़ कनाडा और मेक्सिको के खोज नतीजों में दिखेगा.

<url>
  <loc>https://www.example.com/videos/some_video_landing_page.html</loc>
  <video:video>
    <video:thumbnail_loc>
           https://www.example.com/thumbs/123.jpg
    </video:thumbnail_loc>
    <video:title>Grilling steaks for summer</video:title>
    <video:description>
        Bob shows you how to get perfectly done steaks every time
    </video:description>
    <video:player_loc>
          https://www.example.com/player?video=123
    </video:player_loc>
    <video:restriction relationship="allow">ca mx</video:restriction>
  </video:video>
</url>

सेफ़ सर्च, Google के उपयोगकर्ता खाते में मौजूद एक सेटिंग है. इससे तय होता है कि Google Search के नतीजों में अश्लील इमेज, वीडियो, और वेबसाइटों के दिखने पर रोक लगेगी या नहीं. पक्का करें कि Google यह समझता है कि आपकी साइट पर मौजूद कॉन्टेंट किस तरह का है, ताकि वह आपकी साइट पर सेफ़ सर्च फ़िल्टर को ज़रूरत पड़ने पर लागू कर सके. सेफ़ सर्च के लिए पेजों को लेबल करने के बारे में ज़्यादा जानें.