इंडेक्सिंग एपीआई की क्विकस्टार्ट गाइड

संग्रह की मदद से व्यवस्थित रहें अपनी प्राथमिकताओं के आधार पर, कॉन्टेंट को सेव करें और कैटगरी में बांटें.

इंडेक्सिंग एपीआई की मदद से किसी भी साइट के मालिक, किसी पेज को जोड़ने या हटाने पर Google को सीधे इसकी सूचना दे सकते हैं. इससे Google, नए सिरे से पेजों को क्रॉल कर सकता है, जिससे बेहतर क्वालिटी वाला ट्रैफ़िक मिलने की संभावना बढ़ जाती है. फ़िलहाल, इंडेक्सिंग एपीआई की मदद से, सिर्फ़ उन पेजों को क्रॉल किया जा सकता है जिनमें JobPosting हो या BroadcastEvent को VideoObject में एम्बेड किया गया हो. कई वेबसाइटों पर कुछ ही समय तक रहने वाले पेज होते हैं, जैसे कि नौकरी के विज्ञापन या लाइव स्ट्रीम वीडियो वाले पेज. इंडेक्सिंग एपीआई इन पेजों को खोज के नतीजों में नया बनाए रखता है, ताकि इनसे जुड़े अपडेट ज़रूरत के मुताबिक दिखाए जा सकें.

इंडेक्सिंग एपीआई की मदद से कई काम किए जा सकते हैं. इनमें से कुछ की जानकारी यहां दी गई है:

  • यूआरएल अपडेट करना: अगर किसी नए यूआरएल को क्रॉल किया जाना चाहिए या पहले सबमिट किए जा चुके यूआरएल के पेज में कोई बदलाव किया गया है, तो इस बारे में Google को बताएं.
  • यूआरएल हटाना: सर्वर से किसी पेज को हटाने पर, Google को इसकी सूचना दें. ऐसे में, हम पेज को अपने इंडेक्स से हटा पाएंगे और उसे दोबारा क्रॉल और इंडेक्स नहीं करेंगे.
  • अनुरोध की स्थिति पाना: जानें कि Google को किसी यूआरएल के बारे में अलग-अलग तरह की सूचनाएं पिछली बार कब मिली थीं.
  • बैच में इंडेक्स करने के लिए अनुरोध भेजना: क्लाइंट के बनाए गए एचटीटीपी कनेक्शन कम करने के लिए, इंडेक्सिंग एपीआई के ज़्यादा से ज़्यादा 100 अनुरोधों को एक एचटीटीपी अनुरोध में भेजा जा सकता है.

साइटमैप और इंडेक्सिंग एपीआई

हमारी सलाह है कि आप साइटमैप के बजाय, इंडेक्सिंग एपीआई का इस्तेमाल करें. इंडेक्सिंग एपीआई, Googlebot को आपके पेज को क्रॉल करने का संकेत जल्दी देता है. साथ ही, Googlebot को साइटमैप से यूआरएल हटाने और Google को पिंग करने में ज़्यादा समय लगता है. हालांकि, इसके बाद भी हमारा सुझाव है कि आप साइटमैप सबमिट करें, ताकि आसानी से आपकी पूरी साइट को क्रॉल किया जा सके.

शुरू करना

इंडेक्सिंग एपीआई का इस्तेमाल करने के लिए, नीचे बताए गए चरण फ़ॉलो करें.

  1. आपको ज़रूरी शर्तें पूरी करनी होंगी. इनमें इंडेक्सिंग एपीआई को चालू करना, नया सेवा खाता बनाकर Search Console में मालिकाना हक की पुष्टि करना, और अपने एपीआई कॉल की पुष्टि करने के लिए ऐक्सेस टोकन पाना शामिल हैं.
  2. नए पेज, अपडेट किए गए पेज या मिटाए गए वेब पेजाें के बारे में Google को जानकारी देने के लिए अनुरोध भेजें.
  3. आपको डिफ़ॉल्ट रूप से तय किए गए कोटा से ज़्यादा बार अनुरोध भेजने की ज़रूरत पड़ सकती है. अपना मौजूदा कोटा देखने और कोटा बढ़ाने का अनुरोध करने के लिए, कोटा देखें.