संग्रह की मदद से व्यवस्थित रहें अपनी प्राथमिकताओं के आधार पर, कॉन्टेंट को सेव करें और कैटगरी में बांटें.

Google Images में इमेज का लाइसेंस

अपनी वेबसाइट पर मौजूद इमेज के लिए लाइसेंस की जानकारी देने पर, हो सकता है कि Google Images में, इमेज को उसके थंबनेल पर लाइसेंसेबल बैज के साथ दिखाया जाए. इससे लोगों को पता चलता है कि इमेज के लिए लाइसेंस की जानकारी मौजूद है. साथ ही, इमेज व्यूअर में लाइसेंस का लिंक भी होता है, जिसमें यह जानकारी होती है कि इमेज को किस तरह इस्तेमाल किया जा सकता है.

Google Images में लाइसेंसेबल बैज

सुविधा की उपलब्धता

यह सुविधा मोबाइल और डेस्कटॉप, दोनों पर उपलब्ध है. साथ ही, जिन भाषाओं और देशों में Google Search उपलब्ध है उनमें भी इस सुविधा का इस्तेमाल किया जा सकता है.

अपने वेब पेज और इमेज तैयार करना

यह पक्का करने के लिए कि Google आपकी इमेज ढूंढकर उन्हें इंडेक्स कर सके:

  • पक्का करें कि लोग आपके वे पेज देख सकें या ऐक्सेस कर सकें जिनमें इमेज होती हैं. इसके लिए, उन्हें किसी खाते की या खाते में लॉग इन करने की भी ज़रूरत न हो.
  • पक्का करें कि Googlebot आपके वे पेज ऐक्सेस कर सके जिनमें इमेज होती हैं. इसका मतलब है कि robots.txt फ़ाइल या robots मेटा टैग का इस्तेमाल करके आपके पेजों को ऐक्सेस किए जाने पर रोक न लगाई गई हो. इंडेक्स कवरेज रिपोर्ट में अपनी साइट पर ब्लॉक किए गए सभी पेज देखे जा सकते हैं. इसके अलावा, यूआरएल जांचने वाला टूल इस्तेमाल करके किसी खास पेज की जांच की जा सकती है.
  • यह पक्का करने के लिए कि Google आपका कॉन्टेंट ढूंढ सकता है, वेबमास्टर गाइडलाइन का पालन करें.
  • Google Images इस्तेमाल करने के सबसे सही तरीके अपनाएं.
  • Google को बदलावों के बारे में बताने के लिए, हम आपको साइटमैप सबमिट करने का सुझाव देते हैं. Search Console Sitemap API की मदद से, इसे ऑटोमेट भी किया जा सकता है.

स्ट्रक्चर्ड डेटा या IPTC फ़ोटो मेटाडेटा जोड़ना

Google को यह बताने के लिए कि कौन-कौनसी इमेज लाइसेंसेबल हैं, अपनी साइट की सभी लाइसेंसेबल इमेज में स्ट्रक्चर्ड डेटा या IPTC फ़ोटो मेटाडेटा जोड़ें. अगर आपकी साइट के कई पेजों पर एक ही इमेज है, तो जितने भी पेजों पर वह इमेज दिख रही है उन सभी पेजों के हर इमेज में स्ट्रक्चर्ड डेटा या IPTC फ़ोटो मेटाडेटा जोड़ें.

अपनी इमेज में, लाइसेंस की जानकारी जोड़ने के दो तरीके हैं. लाइसेंसेबल बैज की ज़रूरी शर्तों को पूरा करने के लिए, आपको Google को सिर्फ़ एक तरह की जानकारी देनी होगी. इसके लिए, यहां दिए गए तरीकों में से कोई भी तरीका काफ़ी है:

  • स्ट्रक्चर्ड डेटा: स्ट्रक्चर्ड डेटा, इमेज और उस पेज को जोड़ता है जहां वह मार्कअप के साथ दिखता है. आपको इमेज इस्तेमाल करने पर हर बार स्ट्रक्चर्ड डेटा जोड़ना होगा. भले ही, एक इमेज को बार-बार इस्तेमाल किया गया हो.
  • IPTC फ़ोटो मेटाडेटा: IPTC फ़ोटो मेटाडेटा को इमेज में एम्बेड किया जाता है. इमेज और मेटाडेटा, बिना किसी बदलाव के एक पेज से दूसरे पेज पर जा सकते हैं. आपको हर इमेज के लिए सिर्फ़ एक बार IPTC फ़ोटो मेटाडेटा एम्बेड करना होगा.

यहां दिए गए डायग्राम में दिखाया गया है कि Google Images में लाइसेंस की जानकारी किस तरह दिख सकती है:

कॉल आउट में बताया गया है कि लाइसेंस मेटाडेटा का कौनसा हिस्सा Google Images में दिखाया जा सकता है
  1. ऐसे पेज का यूआरएल जो इमेज के लाइसेंस के बारे में बताता है. लाइसेंस में इमेज को इस्तेमाल करने से जुड़ी जानकारी होती है. इस जानकारी को Schema.org की license प्रॉपर्टी या IPTC वेब स्टेटमेंट ऑफ़ राइट्स फ़ील्ड इस्तेमाल करके बताएं.
  2. ऐसे पेज का यूआरएल जो बताता है कि उपयोगकर्ता किस तरह उस इमेज का लाइसेंस ले सकते हैं. इस जानकारी को Schema.org की acquireLicensePage प्रॉपर्टी या IPTC Licensor URL (Licensor का) फ़ील्ड का इस्तेमाल करके बताएं.

स्ट्रक्चर्ड डेटा

स्ट्रक्चर्ड डेटा वाले फ़ील्ड जोड़कर भी Google को यह बताया जा सकता है कि इमेज लाइसेंसेबल है. स्ट्रक्चर्ड डेटा, पेज के बारे में जानकारी देने और पेज के कॉन्टेंट को कैटगरी में बांटने का एक स्टैंडर्ड फ़ॉर्मैट है. अगर आपके पास स्ट्रक्चर्ड डेटा के बारे में ज़्यादा जानकारी नहीं है, तो स्ट्रक्चर्ड डेटा के काम करने का तरीका देखें.

स्ट्रक्चर्ड डेटा बनाने, उसकी जांच करने, और उसे रिलीज़ करने के बारे में खास जानकारी यहां दी गई है. वेब पेज में स्ट्रक्चर्ड डेटा जोड़ने के सिलसिलेवार निर्देश के लिए, स्ट्रक्चर्ड डेटा कोडलैब (कोड बनाना सीखना) देखें.

  1. ज़रूरी प्रॉपर्टी जोड़ें. जिस फ़ॉर्मैट का इस्तेमाल हो रहा है उसके हिसाब से जानें कि पेज पर स्ट्रक्चर्ड डेटा कहां डालना है.
  2. दिशा-निर्देशों का पालन करें.
  3. ज़्यादा बेहतर नतीजों (रिच रिज़ल्ट) के टेस्ट का इस्तेमाल करके, अपने कोड की पुष्टि करें.
  4. स्ट्रक्चर्ड डेटा वाले कुछ पेजों को डिप्लॉय करें. इसके बाद, यूआरएल जांचने वाला टूल इस्तेमाल करके जांचें कि Google को पेज कैसा दिखेगा. पक्का करें कि Google आपका पेज ऐक्सेस कर सकता हो. साथ ही, देखें कि उस पेज को robots.txt फ़ाइल और noindex टैग से ब्लॉक न किया गया हो या लॉग इन करना ज़रूरी न हो. अगर पेज ठीक दिखता है, तो Google को अपने यूआरएल फिर से क्रॉल करने के लिए कहें.
  5. Google को आगे होने वाले बदलावों की जानकारी देने के लिए, हमारा सुझाव है कि आप साइटमैप सबमिट करें. Search Console Sitemap API की मदद से, इसे ऑटोमेट भी किया जा सकता है.

उदाहरण

एक इमेज

यहां ऐसे पेज का उदाहरण दिया गया है जिसमें एक लाइसेंसेबल इमेज है.

JSON-LD



     

RDFa



     

माइक्रोडेटा



     
srcset टैग में एक इमेज है

यहां एक ऐसे पेज का उदाहरण दिया गया है जिस पर srcset टैग में एक लाइसेंसेबल इमेज मौजूद है.

JSON-LD



     

RDFa



     

माइक्रोडेटा



     
एक पेज पर कई इमेज

यहां ऐसे पेज का उदाहरण दिया गया है जिसमें कई लाइसेंसेबल इमेज हैं.

JSON-LD



     

RDFa



     

माइक्रोडेटा



     

अलग-अलग तरह के स्ट्रक्चर्ड डेटा की जानकारी

ImageObject की पूरी जानकारी schema.org/ImageObject पर दी गई है.

अगर लाइसेंसेबल इमेज के बारे में बताने के लिए स्ट्रक्चर्ड डेटा का इस्तेमाल किया जा रहा है, तो आपको अपनी इमेज के लिए license प्रॉपर्टी को शामिल करना चाहिए. ऐसा करने से, उसे लाइसेंसेबल बैज के साथ दिखाया जा सकता है. हमारा सुझाव है कि अगर आपके पास वह जानकारी है, तो आप acquireLicensePage प्रॉपर्टी को भी शामिल करें.

ज़रूरी प्रॉपर्टी
contentUrl

URL

असल इमेज कॉन्टेंट का यूआरएल Google, contentUrl का इस्तेमाल करके यह तय करता है कि लाइसेंस किस इमेज पर लागू होता है.

license

URL

ऐसे पेज का यूआरएल जो इमेज के लाइसेंस के बारे में बताता है. लाइसेंस में इमेज को इस्तेमाल करने से जुड़ी जानकारी होती है. उदाहरण के लिए, इसमें ऐसे नियम और शर्तें शामिल हो सकती हैं जो आपकी वेबसाइट पर मौजूद हैं. यह क्रिएटिव कॉमंस लाइसेंस भी हो सकता है (जहां लागू हो). उदाहरण के लिए, BY-NC 4.0.

सुझाई गई प्रॉपर्टी
acquireLicensePage

URL

ऐसे पेज का यूआरएल जहां उपयोगकर्ता को उस इमेज का लाइसेंस पाने के बारे में जानकारी मिल सकती है. यहां कुछ उदाहरण दिए गए हैं:

  • उस इमेज के लिए चेक-आउट पेज जहां उपयोगकर्ता, खास रिज़ॉल्यूशन या इस्तेमाल के अधिकार चुन सकते हैं
  • एक सामान्य पेज जिस पर आपसे संपर्क करने का तरीका बताया गया है

IPTC फ़ोटो मेटाडेटा

वैकल्पिक रूप से, सीधे इमेज में IPTC फ़ोटो मेटाडेटा को एम्बेड किया जा सकता है. आपको अपनी इमेज के लिए वेब स्टेटमेंट ऑफ़ राइट्स फ़ील्ड शामिल करना चाहिए, ताकि उसे लाइसेंसेबल बैज के साथ दिखाया जा सके. हमारा सुझाव है कि Licensor URL फ़ील्ड भी जोड़ें (अगर आपके पास वह जानकारी है).

ज़रूरी प्रॉपर्टी
Web Statement of Rights

ऐसे पेज का यूआरएल जो इमेज के लाइसेंस के बारे में बताता है. लाइसेंस में इस बात की जानकारी होती है कि इमेज को कैसे इस्तेमाल किया जा सकता है. इसके अलावा, यूआरएल में दूसरे अधिकारों की जानकारी भी हो सकती है. उदाहरण के लिए, इसमें ऐसे नियम और शर्तें शामिल हो सकती हैं जो आपकी वेबसाइट पर मौजूद हैं. यह क्रिएटिव कॉमंस लाइसेंस भी हो सकता है (जहां लागू हो). उदाहरण के लिए, BY-NC 4.0.

सुझाई गई प्रॉपर्टी
Licensor URL

ऐसे पेज का यूआरएल जहां उपयोगकर्ता को उस इमेज का लाइसेंस पाने के बारे में जानकारी मिल सकती है. Licensor URL, Licensorऑब्जेक्ट की प्रॉपर्टी होनी चाहिए, न कि इमेज ऑब्जेक्ट की. यहां कुछ उदाहरण दिए गए हैं:

  • उस इमेज के लिए चेक-आउट पेज जहां उपयोगकर्ता खास रिज़ॉल्यूशन चुन सकते हैं
  • एक सामान्य पेज जो आपसे संपर्क करने का तरीका बताता है

Search Console की मदद से, ज़्यादा बेहतर नतीजों (रिच रिज़ल्ट) पर नज़र रखना

Search Console एक ऐसा टूल है जिसकी मदद से, आप Google Search में अपने पेज की परफ़ॉर्मेंस पर नज़र रख सकते हैं. Google Search के नतीजों में अपनी साइट को शामिल कराने के लिए, आपको Search Console में साइन अप करने की ज़रूरत नहीं है. हालांकि, इससे आपको यह समझने में मदद मिलेगी कि Google आपकी साइट को कैसे देखता है. साथ ही, इसकी मदद से, साइट की परफ़ॉर्मेंस को भी बेहतर बनाया जा सकता है. हमारा सुझाव है कि आप इन मामलों में Search Console देखें:

  1. पहली बार स्ट्रक्चर्ड डेटा इस्तेमाल करने के बाद
  2. नए टेंप्लेट जारी करने या कोड को अपडेट करने के बाद
  3. समय-समय पर ट्रैफ़िक का विश्लेषण करते समय

पहली बार स्ट्रक्चर्ड डेटा इस्तेमाल करने के बाद

जब Google, आपके पेजों को इंडेक्स कर ले, तब ज़्यादा बेहतर नतीजों (रिच रिज़ल्ट) की स्थिति वाली रिपोर्ट का इस्तेमाल करके, उन गड़बड़ियों को देखें जिन्हें ठीक करने की ज़रूरत है. आम तौर पर, सही पेजों की संख्या में बढ़ोतरी होगी और गड़बड़ियों या चेतावनियों की संख्या में कोई बढ़ोतरी नहीं होगी. अगर आपको स्ट्रक्चर्ड डेटा में गड़बड़ियां मिलती हैं, तो:

  1. गड़बड़ियां ठीक करें.
  2. लाइव यूआरएल की जांच करें और देखें कि गड़बड़ी ठीक हुई या नहीं.
  3. स्थिति की रिपोर्ट का इस्तेमाल करके, पुष्टि करने का अनुरोध करें.

नए टेंप्लेट जारी करने या कोड को अपडेट करने के बाद

जब आप वेबसाइट में कई ज़रूरी बदलाव करते हैं, तब स्ट्रक्चर्ड डेटा की गड़बड़ियों और चेतावनियों में हुई बढ़ोतरी पर नज़र रखें.
  • अगर आपको गड़बड़ियों में बढ़ोतरी दिखती है, तो हो सकता है कि आपने ऐसा नया टेंप्लेट रोल आउट किया हो जो काम नहीं करता. इसके अलावा, यह भी हो सकता है कि आपकी साइट, मौजूदा टेंप्लेट से नए और खराब तरीके से इंटरैक्ट कर रही हो.
  • अगर आपको मान्य आइटम की संख्या में कमी दिखती है, यानी वह गड़बड़ियों में बढ़ोतरी से मेल नहीं खाती, तो हो सकता है कि अब आप पेजों में स्ट्रक्चर्ड डेटा एम्बेड नहीं कर रहे हैं. गड़बड़ी की वजह जानने के लिए, यूआरएल जांचने वाले टूल का इस्तेमाल करें.

समय-समय पर ट्रैफ़िक का विश्लेषण करना

परफ़ॉर्मेंस रिपोर्ट का इस्तेमाल करके, Google Search से आने वाले ट्रैफ़िक का विश्लेषण करें. आपको डेटा से पता चलेगा कि आपका पेज Search में, ज़्यादा बेहतर नतीजे (रिच रिज़ल्ट) के तौर पर कितनी बार दिखता है. साथ ही, यह भी पता चलेगा कि लोग उस पर कितनी बार क्लिक करते हैं और खोज के नतीजों में आपकी साइट के दिखने की औसत जगह क्या है. आपके पास इन नतीजों को Search Console API की मदद से अपने-आप देखने का भी विकल्प है.

समस्याएं हल करना

अगर आपको Google Images में इमेज लाइसेंस लागू करने में समस्या आ रही है, तो आप यहां दिए गए रिसॉर्स की मदद ले सकते हैं.